संदेश

May 17, 2009 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

vinod mishra ka blog: बीजेपी की नाकामयाबी पर रोएँ या कांग्रेस की कामयाबी पर इतराएँ#links#links

बीजेपी की नाकामयाबी पर रोएँ या कांग्रेस की कामयाबी पर इतराएँ

चित्र
किस किस को याद कर्रें किस किस को रोये आराम बड़ी चीज है मुहं ढक के सोएये। मौजूदा सियासत की यही कहानी है । बीजेपी में मंथन का दौर जारी है । कांग्रेस अपनी जीत पर फूले नही समां रही है । राजनितिक पंडित जीत हार का विश्लेषण करने में व्यस्त है । हर का अपना तर्क है ,मनो यही अन्तिम है । राजनीती इतनी क्रूर है कि जो पीछे छुट गया उसे कोई पहचानने वाला नही है । खेल पॉवर का है खेल सुर्खियों में बने रहने का है खेल सुविधा हड़पने का है । भला इस खेल में विचारधारा कोई पहचान रख सकती है । लेकिन सत्ता के खेल में आज भी बीजेपी अपनी पहचान को छोड़ना नही चाहती या यूं कहे कि उसे इस पहचान से अलग नही होने दिया जाता । बीजेपी के अन्दर ही चुनावी मुद्दे को लेकर सवाल उठ रहे है । अफज़ल को फांसी भला ये कोई मुद्दा हो सकता है , शिव राज सिंह चौहान को मलाल है कि बीजेपी ने मुद्दे उठाने में नासमझी की । अरुण जेटली कहते है कि प्रधान मंत्री मनमोहन सिंह को बार बार कमजोर कहना नादानी साबित हुई । तो बीजेपी के कई वरिष्ठ लीडर नरेन्द्र मोदी और वरुण गाँधी को तरजीह मिलने से खफा है । यानि हार के कारणों को ढूंढने के वजाय बीजेपी में एक दुसरे क…

vinod mishra ka blog: vinod mishra ka blog: बीजेपी को छुटा वाजपेयी का साथ कांग्रेस को मिला आम आदमी का साथ

vinod mishra ka blog: बीजेपी को छुटा वाजपेयी का साथ कांग्रेस को मिला आम आदमी का साथ