संसद पर एन जी ओ भारी

२४ घंटे के खबरिया चैनल में सिर्फ बाबा रामदेव .अंग्रेजी सहित दूसरी भारतीय भाषा के अख़बारों में सिर्फ बाबा  रामदेव .यानी खबरों का सरोकार इनदिनों बाबा रामदेव से है जो १अरब १२ करोड़ जनता की सरकार को धमका रहे है .केंद्र की हर दिल अजीज और लोकप्रिय यु पी ए  सरकार जिसे दुबारा सत्ता में आने का मौका देश की जनता ने दिया वह एक अदना सा बाबा के सामने गिरगिरा रही है .बाबा रामदेव भ्रष्टाचार और कालाधन के खिलाफ राजधानी दिल्ली में  आमरण अनशन करने वाले है लेकिन नींद सरकार की उडी हुई है .नेहरु जी और इंदिरा जी के बाद मनमोहन सिंह तीसरे कांग्रेसी प्रधानमंत्री है जिन्होंने देश पर ७ साल से अधिक राज किया है लेकिन एक अदना सा बाबा जिसकी बाजीगरी सांस तेज खीचने में है उसने प्रधानमंत्री की साँसे  अटका दी है .प्रधानमंत्री बाबा को मनाने के लिये चिठ्ठी लिख रहे है .आयकर विभाग से लेकर इ डी के आला अधिकारी कालाधन और आयकर चोरी का रहस्य और सरकार की मजबूरी से बाबा को अवगत करा रहे है .लेकिन बाबा तो बाबा है टी वी के जरिये पूरी दुनिया को अबतक योग रहस्य बताते रहे है अब उसी टीवी के जरिये वो  लोगों को कालाधन का रहस्य बताने सामने आये है लेकिन सरकार उन्हें यह मौका  नहीं देना चाहती है सो बाबा की दिल्ली एअरपोर्ट पर आने की खबर सुनते ही सरकार के आलामंत्री और संकटमोचक प्रणव मुखर्जी बाबा को घेरने एअरपोर्ट पहुँच गए .जो सरकार आम लोगो से बात करने के लिए तैयार नहीं है ,जो सरकार महगाई जैसी अहम् समस्या पर जनता की मांग को अबतक दरकिनार करती रही है वही सरकार बाबा से बात करने दौर लगा रही है .ये बाबा का रहस्य है या कलाधन का लेकिन जंतर मंतर का खोफ सरकार पर आज भी सर चढ़ कर बोल रहा है .
भ्रष्टाचार के दल दल में फसे एक तथाकथित इमानदार प्रधानमंत्री की ये हालत किसने की है .माननीय अदालतों ने ,देश के बुद्धिजीवियों ने या फिर एन जी ओ ने ?जाहिर है पहले सोनिया जी का एन जी ओ राष्ट्रीय सलाहकार परिषद् ने सरकार का कद छोटा किया तो दुसरे एन जी ओ वाले ने सरकार और संसद के अस्तित्व पर ही सवालिया निशान लगा दिया .पेट्रोल प्राइस की बात हो या सब्सिडी की या फिर लोकपाल बिल की बात हो या फ़ूड सिक्यूरिटी की या फिर सांप्रदायिक दंगा विरोधी बिल राष्ट्रीय सलाहकार परिषद् के विद्वान सदस्य अपना वीटो पेश करके मंत्रीपरिषद् के निर्णयों को प्रभावित करते है .जाहिर है यह सोनिया जी का एन जी ओ है सो सरकार इसे लगभग सरकारी मसौदा मान लेती है .लेकिन अन्ना हजारे और अरविद केजरीवाल का एन जी ओ जब लोकपाल बिल पर अपना सुझाव सामने लाता है तो इसे पहले दरकिनार करने की कोशिश की जाती है .लेकिन पहलीबार देश के विभिन्न एन जी ओ ने दिखाया है कि वह सरकारी एन जी ओ पर भरी है क्योंकि सरकार से लोगों का भरोसा उठ चूका है ..राजधानी दिल्ली स्थित जंतर मंतर महज दो दिनों के अंदर तहरीर चौक का रूप ले लेगा, ऐसा अंदाजा न तो सरकार को था न ही आन्दोलनकारी को ऐसा यकीन था .  अन्ना हजारे का आमरण अनसन महज ५२  घंटे में राष्ट्रव्यापी आन्दोलन बन गया .हर शहर के चौक चौराहे पर भ्रष्टाचार के खिलाफ लोगों की उमड़ी भीड़ सरकार को यह बता रही थी ,कि सब्र का पैमाना अब टूट चूका है .
गांधी के इस देश में आम लोगों का सरोकार सरकार से कितना है इसे इस सन्दर्भ में समझा जा सकता है .केंद्रीय बजट के रूप में सरकार हर साल ११-१२ लाख करोड़ रूपये का लेखा -जोखा प्रस्तुत करती है .मुल्क की प्रान्तों की सरकार भी हर साल २३-२५ लाख करोड़ रूपये खर्च करती है .यानी जिस देश में सरकारें ३५-३७ लाख करोड़ रुपया खर्च करती हो और वहां की ७० फीषद आवादी की आमदनी २० रुपया हो तो यह माना जा सकता है कि मुल्क के राजनेताओ और नौकरशाहो ने दलालों के जरिये आम लोगों के हिस्से को लूट लिया है .बाबा रामदेव आज यही बात लोगों को समझाने में कामयाब हुए है कि लूट के पैसे सरकार वापस लाती है तो यह मुल्क इंग्लॅण्ड और अमेरिका को भी पीछे छोड़ सकता है .बाबा रामदेव न तो कोई अर्थशास्त्री है न ही कभी जाँच एजेंसी से उनका सरोकार रहा है लेकिन वो दावा करते है कि सरकार उनकी बात माने तो वेदेशो में रखे ५०० खरब रुपया भारत वापस लाया जा सकता है .सरकार की मजबूरी यह है कि वह रोज सुप्रीम कोर्ट में कालाधन के मामले में फटकार सुन रही है लेकिन सूचि को सार्वजानिक करने को तैयार नहीं है .बाबा रामदेव सरकार की कमजोरी जान चुके है .लेकिन बाबा को पता है दवाब में आकर सरकार ने पहले अन्ना हजारे को संसद से भी महान बना दिया लेकिन आज सरकार के मंत्री उन्हें धमका रहे है .बाबा रामदेव यह भी जानते है कि कल तक सरकार दिग्विजय सिंह को अनाप सनाप बयान देने के लिए खुल्ला छोड़ दिया था .दिग्विजय सिंह हर मंच से बाबा को ललकार रहे थे लेकिन आज देश के प्रधानमंत्री उन्हें खुद पुचकार रहे है .बाबा सियासत और कांग्रेस की चाल से पूरी तरह वाकिफ है .
लेकिन सवाल यह है देश के संसद से महज ५०० मीटर की दुरी पर स्थित जंतर मंतर पर कुछ एन जी ओ के  अनसन से सरकार इतना क्यों विचलित हो उठती है कि कानून बनाने का जिम्मा सांसदों से छीन कर एन जी ओ वाले को दे दिया जाता है .कलाधन के मामले में सरकार संसद में चर्चा से बचती है लेकिन बाबा रामदेव से इसी मुद्दे पर चर्चा के लिए ऐयेरपोर्ट पर दौर लगाती है .सरकार इखलाख से चलती है, सरकार भरोसे से चलती है, सरकार लोगों से संवाद बना कर चलती है .अगर यह सरकार में नहीं है तो माना जायेगा कि यह सरकार किसी के लिए चलायी जा रही है जिसका देश से कोई संवाद नहीं कोई सरोकार नहीं  है .बाबा रामदेव के भारत स्वाभिमान परिषद् और सोनिया जी के राष्ट्रीय सलाहकार परिषद् के बीच फसी यह सरकार को तय करना होगा कि वह किसके साथ है .


टिप्पणियाँ

bauwajha ने कहा…
baba ram dev sach kah rahe hain ham yuva ko kadam se kadm mila ke is muhim ko tez karna chahiye..anna ji ki aawaz pe jis tarah golbandi bani thi..thik wase hin samast bhartiy ko aage aana hoga.akele anna je baba se kuch nahin hoga jab tak sabhi ek na ho
बेनामी ने कहा…
Dear Mishraji,

Kya khyal hai ab aapka Baba Ramdev ke deshvyapi andolan ke baare me
Shambhu Thakur ने कहा…
जय निश्चित तेरी ही होगी


इतनी हैवानियत
कहाँ छुपा रखे थे तुम ?
तुम तो मानवता के भी
विरोधी हो
राष्ट्र कैसे सह रहा है
इन कुकृत्यों को ?
ये मिटटी के दाग हैं
बार-बार इस देश को
शर्मसार होना पड़ेगा
बार-बार लोकतंत्र को
अकारण ही सहना पडेगा
इस अपमान को
बार-बार इस भारत भूमि को
क्यूँ ढोना पड़ेगा?
किसी के पाप को
अन्याय को
बर्बरता को
क्यूँ भारत जो ऋषियों-
का देश है
जिसे विदेशियों ने लूटा
आततायियों ने आतंकित किया
इस सोने की चिड़िया वाले देश को
वर्षों तलक
क्यूँ सहना पडा गुलामी का बंधन
क्या भारत आजाद है ?
क्या भारत आज भी गुलाम है ?
ये कौन ?
जो हमारे निहत्थे भाइयों को
हमारे बुजुर्गों को
रात के अंधियारे में
जब सारा देश सो रहा है
वे कुचल रहे हैं
गोले से, लाठियों से
सर फोड़ रहे हैं
ये कौन ?
जो हमारी माताओं को
हमारी बहनों को
रात के अंधियारे में
हवस का शिकार
बना रहे हैं
ये कौन ?
इन छोटे-छोटे बच्चों को
इतनी बेशर्मी से
पीट रहें हैं
क्या इन्हें तरस नहीं आता
हमारे इस देश के
नन्हे नौनिहालों पर
माताओं पर
बहनों पर
क्या इनमे इतनी सामर्थ्य
कि ये कुचल देंगे भारत की
आवाज को
क्या इनमे इतनी सामर्थ्य
कि हमारे आजादी की
वर्षों की मिहनत को
ये मिटा देंगे
क्या इनमे इतनी हिम्मत
कि एक विदेशी ताकत
के सामने सारे देश को
पीस देंगे
ये क्या इस देश के
जो धरोहर हैं
हमारी सांस्कृतिक विरासत है
हमारे पूर्वजों की
अमूल्य संतति है
यहाँ की ऋषि परम्परा
उसको नस्तेनाबूद कर देंगे
क्या यहाँ का संविधान इतना विवश है
क्या यहाँ की जनता इतनी विवश है ?
क्या हम पूरी तरह भूल गएँ हैं
अपनी कुर्वानियों को ?
जागो !
हे देश वासियों जागो !
खदेड़ दो
हे रणवाकुरों!
हे भारत पुत्रों !
मिटा दो अत्याचार को
अत्याचारियों को !
आज तुम्हे सीमाओं पड़ नहीं
सीमाओं के अन्दर लड़ना है
देश की खातिर
सविधान की रक्षा के खातिर
सीमाओं पड़ मेरे देश के जवान
डटे हैं
यहाँ हमें लड़ना है
अपनी आजादी के खातिर
विश्वास रखो
जय तेरी ही होगी
जय निश्चित तेरी ही होगी !

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

क्या कश्मीर भारत के हाथ से फिसल रहा है ?

कश्मीर मसला है.... या बकैती ?

हिंदू आतंकवाद, इस्लामिक आतंकवाद और देश की सियासत