संदेश

March 1, 2009 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

सत्ता की जंग में पप्पू और ठेकेदार आमने सामने

चित्र
सत्ता के लिए जंग का आधिकारिक रूप से एलान हो चुका है । सियासी दलों में जोड़ तोड़ का सिलसिला भी चल पड़ा है । सत्ता हथियाने के लिए नए नए समीकरण बन रहे है । लेकिन सत्ता के इस खेल में आम वोटर हाशिये पर है । दोनों बड़ी पार्टियाँ कांग्रेस और बीजेपी क्षेत्रीय क्षत्रपों से हर दिन डिक्टेशन ले रहे हैं । मानो मैदान में कांग्रेस और बीजेपी महज पुतला है और उनकी डोर वोट के ठेकेदारों के पास है । यानि सरकार बानाने और बिगाड़ने का सारा खेल क्षेत्रीय दलों के पास है । २००४ के चुनाव परिणाम को याद कीजिये कांग्रेस ने महज १४५ सीटें जीती थी ,जबकि बीजेपी ने १३८ । लेकिन क्षेत्रीय दलों की कामयाबी को अपने साथ जोड़ कर कांग्रेस ने अपनी सरकार बना ली । यानि महज २६ फीसद वोट हासिल कर कांग्रेस ने न केबल पॉँच साल तक देश चलाया बल्कि १अरब आवादी वाले इस देश को अपने फैसले से प्रभावित किया । कई मसले पर फैसले नही लेकर भी सरकार ने देश का उतना ही नुक्सान किया । लेकिन सवाल यह है कि क्या सरकार के काम काज और फैसले की कोई समीक्षा इस चुनाव में होने वाला है । अगर कोई एंटी इन्कोम्बंसी की बात होती ,सरकार के पाँच साल चुनावी मुद्दा होता तो न …