पोस्ट

जनवरी 27, 2019 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

राम मंदिर निर्माण का मामला क्या सिर्फ 50 गज जमीन का है ?

इमेज
अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण को लेकर प्रयागराज में संतो और विश्व हिन्दू परिषद   की धर्म संसद पास हुई या फेल। यह बताना अभी मुश्किल है क्योकि मंदिर निर्माण को लेकर स्वरूपानंद जी की  परम धर्म संसद की मान्यता कुछ अलग है जो सिर्फ मोदी  सरकार के  प्रयासों को बेमानी साबित करती है। लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह है कि महज 50 गज जमीन की वैधानिक हक़ पा चूका मुस्लिम संगठन अयोध्या के राम मंदिर निर्माण की सबसे बड़ी बाधा है ? या करोडो हिन्दुओ की आस्था का प्रश्न और उनके 68 एकड़ जमीन का भूभाग मुस्लिम संगठन के 50 गज जमीन का  सवाल इतना अहम् है कि  सरकार /संसद कोई कानून नहीं बना पाती ,सुप्रीम कोर्ट केस सुनने को लेकर तैयार नहीं है। क्यों  सेक्युलर इंडिया के चेहरे पर बदनुमा कालिख पुतने का खतरा है ? लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह है कि  भारत की सांस्कृतिक राजधानी अयोध्या  और विरासत का सबसे प्राचीन शहर अपने एक छोटे से जमीन के विवाद का हल आपसी सहमति से नहीं ढूढ़ सकता ?  क्या मर्यादा पुरुषोत्तम   राम  की  अयोध्या  अल्लामा इक़बाल के इमामे हिन्द की अयोध्या ने  अपनी गंगा जमुनी तहजीब को भूलाकर कुछ संगठनो के सियासी स्वार्थ क

मी लार्ड : राष्ट्र पिता गाँधी की प्रार्थना , रघुपति राघव राजा राम याद है ...

इमेज
जिस देश में सर्वोच्च न्यायलय के समक्ष 57,346 केस पेंडिंग हों ,उच्च न्यायलय के समक्ष 47,19,483 और निचली अदालतों में 2,96,93988 मुकद्दमे देर से मिले न्याय अन्याय के सिद्धांत को कारगर साबित कर रहा हो ,उस देश में स्कूलों के प्रार्थना को लेकर माननीय सर्वोच्च न्यायलय की संवैधानिक पीठ बनाने का फैसला हैरान करता है। असतो मा सद्गमय ।तमसो मा ज्योतिर्गमय ।मृत्योर्मा अमृतं गमय । ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥ ऋगवेद का यह शांति मंत्र मानवमात्र को मन की पवित्रता ,सत्य और प्रकाश/ज्ञान पाने के लिए प्रेरित करता है हालांकि प्रकृति को संवोधित यह प्रार्थना संस्कृत में है तो कुछ लोगों को मौलिक अधिकार का हनन लगता है और सुप्रीम कोर्ट अपने को इस मसले का चैम्पियन मानता है। लेकिन महाभारत का यह सूत्र यतो धर्मस्ततो जयः यानी जहाँ न्याय है वहां जीत सुनिश्चित है। सुप्रीम कोर्ट के हर कोर्ट रूम में यह "प्रतीक" वाक्य भारत की न्याय परमपरा की श्रेष्ठता को दर्शता है। कभी किसी मी लॉर्ड को इस एंब्लेम से दिक्कत नहीं हुई है । क्या मी लार्ड को राष्ट्रपिता गाँधी जी की प्रार्थना रघुपति राघव राजा राम . याद है ?  केंद्री