पोस्ट

मई 18, 2014 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

पाकिस्तान को भी है मोदी से उम्मीदें

इमेज
नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में सार्क देशो के राष्ट्राध्यक्षों के शामिल होने को लेकर सियासी घमासान मचा हुआ है। पाकिस्तान को अबतक जी भर कोसने वाले मोदी जी को आख़िरकार अपने शपथग्रहण समारोह में पाकिस्तान की याद क्यों आई ?क्यों सार्क फोरम नरेंद्र मोदी के लिए इतना महत्वपूर्ण हो गया जो पिछले दस साल से उपेक्षित था। क्या भारत सहित दुनिया के दुसरे देशों में अपनी छवि बदलने के लिए मोदी ने सार्क को एक प्लेटफॉर्म बनाया है ? सवाल कई हैं लेकिन जवाब कम। लेकिन पाकिस्तान के वज़ीरे आज़म नवाज़ शरीफ के भारत आने की चर्चा ने एक नई सियासी पहल का संकेत दिया है।  पिछले २५    वर्षों से पाकिस्तान ने भारत के खिलाफ अघोषित    हमला बोल रखा है इन वर्षों में हमारे   ९०    हज़ार से ज्यादा लोगों की जान गयी है .  इस छदम युद्ध में हमारे २०    हजार से ज्यादा जवान मारे गए है .लेकिन हरबार हमने अब और नहीं ,कह कर सिर्फ दूसरे हमले का ही इन्तजार किया है .कल तक  कांग्रेस को कारवाई करने के लिए उकसा रही बीजेपी आज खुद अमन बहाली के लिए "वाजपेयी फार्मूला"ढूंढ  रही है।  यानी पाकिस्तान पर हमले को लेकर जो अडचने  अटल जी के